क्या मोदी सरकार के इस कदम से, कैश वितरण प्रणाली में विदेशी कम्पनियों का कब्ज़ा हो जायेगा ?

क्या मोदी सरकार के इस कदम से, कैश वितरण प्रणाली में विदेशी कम्पनियों का कब्ज़ा हो जायेगा ?

देश के लाखों कर्मचारियों पर रोजगार का संकट आ गया है ओर देशी कम्पनियो की जगह विदेशी कम्पनियों को बड़ी चतुराई से अंदर किया जा रहा है देश की कैश इन ट्रांजिट यानी कैश वितरण प्रणाली के बिजनेस में शामिल साठ कंपनिया भारतीय रिजर्व बैंक के एक ताजा सर्कुलर से बन्द होने की कगार पर […]

Read More
 तो यह है मुद्रा योजना पर सरकारी दावों की हक़ीक़त

तो यह है मुद्रा योजना पर सरकारी दावों की हक़ीक़त

कल पीएम मोदी ने बहुत लंबी लंबी छोड़ी है, उन्होंने अपनी बहुचर्चित मुद्रा योजना के जो आँकड़े पेश किये है वह बेहद चौकाने वाले है उन्होंने कहा कि मुद्रा योजना के तहत 3 मई, 2018 तक 12.61 करोड़ लोगों को कर्ज दिया जा चुका है इस प्रधानमंत्री मुद्रा योजना की शुरुआत मोदी ने आठ अप्रैल […]

Read More
 नज़रिया – क्या भावी ब्यूरोक्रेसी को संघ के एजेंडे के तहत लाने की साजिश हो रही है ?

नज़रिया – क्या भावी ब्यूरोक्रेसी को संघ के एजेंडे के तहत लाने की साजिश हो रही है ?

इस ख़बर से हमे वाक़ई चिंतित होने की जरूरत है क्योकि देश के भावी ब्यूरोक्रेसी को अपने एजेंडे के तहत लाने की साजिश हो रही हैं यूपीएससी एग्जाम में चुने जाने के बाद सभी अभ्यार्थियों को तीन महीने का फाउंडेशन कोर्स कराया जाता है. अभी तक फाउंडेशन कोर्स शुरू होने से पहले ही कैडर और […]

Read More
 आखिर महाभियोग प्रस्ताव खारिज क्यो नही किया जाना चाहिए था? पढिए पूरी रिपोर्ट

आखिर महाभियोग प्रस्ताव खारिज क्यो नही किया जाना चाहिए था? पढिए पूरी रिपोर्ट

पूरी बेशर्मी के साथ चीफ जस्टिस के खिलाफ लाए गए महाभियोग प्रस्ताव को राज्यसभा के सभापति और उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने खारिज कर दिया बहुत सी वजहें इस प्रस्ताव को अस्वीकार करने की उन्होंने बताई हैं लेकिन एक भी वजह ऐसी नही है जो उन 5 आरोपो में से एक को भी खारिज करती हैं […]

Read More
 मौत पर सवाल, साज़िश या सामान्य मौत ?

मौत पर सवाल, साज़िश या सामान्य मौत ?

सोहराबुद्दीन केस आपको याद होगा. गुजरात पुलिस ने एक कथित फेक एनकाउंटर रच कर सोहराबुद्दीन को मार डाला था. स केस में अमित शाह का भी नाम शामिल था. सोहराबुद्दीन केस मुंबई की सीबीआई अदालत के जज बृजगोपाल हरिकृष्ण लोया के पास था. 2014 में मोदी सरकार बन जाने के बाद अचानक जज साहब की […]

Read More
 क्या मध्यमवर्गीय और गरीबो को लेकर असंवेदनशील हो चुकी है सरकार

क्या मध्यमवर्गीय और गरीबो को लेकर असंवेदनशील हो चुकी है सरकार

अब मोदी सरकार के मंत्री पूरी तरह से बेशर्मी पर उतर आए हैं आज केन्द्रीय पर्यटन मंत्री अल्फोंज कन्ननाथनम ने कहा है कि जो लोग पेट्रोल डीजल खरीद रहे हैं वो गरीब नहीं है और ना ही वो भूखे मर रहे हैं, उनका कहना है कि सरकार को गरीबों का कल्याण करना है, और इसके […]

Read More