पूरा पढिए, क्यों राफेल मामले में कांग्रेस को अपनी जुबान काबू में रखना चाहिए?

पूरा पढिए, क्यों राफेल मामले में कांग्रेस को अपनी जुबान काबू में रखना चाहिए?

अनिल अंबानी की राफेल के मामले में हिम्मत इतनी बढ़ गयी है कि वह कांग्रेस को लीगल नोटिस भेज रहे हैं उनका कहना है कि कांग्रेस अपनी जुबान काबू में रखे लेकिन सच मानिये इस मामले में कांग्रेस की भी पूरी गलती है. गलती ये है कि उसने सिर्फ रॉफेल डील पर ही क्यों सवाल […]

Read More
 राफेल घोटाले पर अरुण शौरी, यशवंत सिन्हा और प्रशांत भूषण ने मोदी सरकार से किये कई सवाल

राफेल घोटाले पर अरुण शौरी, यशवंत सिन्हा और प्रशांत भूषण ने मोदी सरकार से किये कई सवाल

भारत का बड़े मीडिया घराने कल एक बार फिर नंगे हो गए कल शाम 5 बजे के लगभग NDA सरकार में मंत्री रहे यशवंत सिन्हा और प्रसिद्ध पत्रकार अरुण शौरी तथा उच्चतम न्यायालय के वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण ने संयुक्त रूप से सवाल उठाते हुए एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में फ्रांस सरकार […]

Read More
 क्या है मोदी सरकार का "पवनहंस घोटाला" ?

क्या है मोदी सरकार का "पवनहंस घोटाला" ?

आखिरकार बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने 2017 में तीन साल के लिए ओएनजीसी के डायरेक्टर बनाए जाने और सालाना फ्री की 27 लाख रुपये की तनख्वाह पाने का पूरा हक अदा कर दिया है, पहले उन्होंने रिलायंस को 30 हजार करोड़ का लाभ पुहंचाया और अब पवनहंस में ONGC के 49 प्रतिशत हिस्से को बेचने […]

Read More
 ONGC गैस चोरी मामला – अंबानी से हारा "भारत"

ONGC गैस चोरी मामला – अंबानी से हारा "भारत"

कार्पोरेट घरानों से आबाद गोदी मीडिया यह सच आपको कभी नही बताएगी इसलिए इस ख़बर को यही पर पढ़ लीजिए कल हम एक अंतराष्ट्रीय ट्रिब्यूनल में रिलायंस द्वारा डाली गयी 30 हजार करोड़ की डकैती का मुकदमा हार गए हैं. दरअसल वहाँ पर मोदी सरकार की नही भारत की जनता की हार हुई है और […]

Read More
 नज़रिया – लैटरल एंट्री के बहाने अपनी विचारधारा से जुड़े लोगों की बैकडोर एंट्री चाहते हैं मोदी

नज़रिया – लैटरल एंट्री के बहाने अपनी विचारधारा से जुड़े लोगों की बैकडोर एंट्री चाहते हैं मोदी

मोदी सरकार ने टॉप ब्यूरोक्रेसी में प्रवेश पाने का अब तक सबसे बड़ा बदलाव कर दिया, डीओपीटी की ओर से जारी अधिसूचना के अनुसार विभिन्न मंत्रालयों में 10 जॉइंट सेक्रटरी के पद पर नियुक्ति होगी। इनका टर्म 3 साल का होगा और अगर अच्छा प्रदर्शन हुआ तो 5 साल तक के लिए इनकी नियुक्ति की […]

Read More
 क्या मोदी सरकार के इस कदम से, कैश वितरण प्रणाली में विदेशी कम्पनियों का कब्ज़ा हो जायेगा ?

क्या मोदी सरकार के इस कदम से, कैश वितरण प्रणाली में विदेशी कम्पनियों का कब्ज़ा हो जायेगा ?

देश के लाखों कर्मचारियों पर रोजगार का संकट आ गया है ओर देशी कम्पनियो की जगह विदेशी कम्पनियों को बड़ी चतुराई से अंदर किया जा रहा है देश की कैश इन ट्रांजिट यानी कैश वितरण प्रणाली के बिजनेस में शामिल साठ कंपनिया भारतीय रिजर्व बैंक के एक ताजा सर्कुलर से बन्द होने की कगार पर […]

Read More
 तो यह है मुद्रा योजना पर सरकारी दावों की हक़ीक़त

तो यह है मुद्रा योजना पर सरकारी दावों की हक़ीक़त

कल पीएम मोदी ने बहुत लंबी लंबी छोड़ी है, उन्होंने अपनी बहुचर्चित मुद्रा योजना के जो आँकड़े पेश किये है वह बेहद चौकाने वाले है उन्होंने कहा कि मुद्रा योजना के तहत 3 मई, 2018 तक 12.61 करोड़ लोगों को कर्ज दिया जा चुका है इस प्रधानमंत्री मुद्रा योजना की शुरुआत मोदी ने आठ अप्रैल […]

Read More
 नज़रिया – क्या भावी ब्यूरोक्रेसी को संघ के एजेंडे के तहत लाने की साजिश हो रही है ?

नज़रिया – क्या भावी ब्यूरोक्रेसी को संघ के एजेंडे के तहत लाने की साजिश हो रही है ?

इस ख़बर से हमे वाक़ई चिंतित होने की जरूरत है क्योकि देश के भावी ब्यूरोक्रेसी को अपने एजेंडे के तहत लाने की साजिश हो रही हैं यूपीएससी एग्जाम में चुने जाने के बाद सभी अभ्यार्थियों को तीन महीने का फाउंडेशन कोर्स कराया जाता है. अभी तक फाउंडेशन कोर्स शुरू होने से पहले ही कैडर और […]

Read More
 आखिर महाभियोग प्रस्ताव खारिज क्यो नही किया जाना चाहिए था? पढिए पूरी रिपोर्ट

आखिर महाभियोग प्रस्ताव खारिज क्यो नही किया जाना चाहिए था? पढिए पूरी रिपोर्ट

पूरी बेशर्मी के साथ चीफ जस्टिस के खिलाफ लाए गए महाभियोग प्रस्ताव को राज्यसभा के सभापति और उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने खारिज कर दिया बहुत सी वजहें इस प्रस्ताव को अस्वीकार करने की उन्होंने बताई हैं लेकिन एक भी वजह ऐसी नही है जो उन 5 आरोपो में से एक को भी खारिज करती हैं […]

Read More
 मौत पर सवाल, साज़िश या सामान्य मौत ?

मौत पर सवाल, साज़िश या सामान्य मौत ?

सोहराबुद्दीन केस आपको याद होगा. गुजरात पुलिस ने एक कथित फेक एनकाउंटर रच कर सोहराबुद्दीन को मार डाला था. स केस में अमित शाह का भी नाम शामिल था. सोहराबुद्दीन केस मुंबई की सीबीआई अदालत के जज बृजगोपाल हरिकृष्ण लोया के पास था. 2014 में मोदी सरकार बन जाने के बाद अचानक जज साहब की […]

Read More