क्या वामपंथ और नास्तिकता की आड़ में इस्लामोफोबिया परोसा जा रहा है?

क्या वामपंथ और नास्तिकता की आड़ में इस्लामोफोबिया परोसा जा रहा है?

मैंने तकरीबन चार साल पहले एक थ्योरी बनाई थी। बैलेंसवाद। कुछ लोग मुंसघी करके एक टर्म यूज़ कर रहे थे। मैंने उन सबको टोका। मना किया। लेकिन अहंकार और व्यक्तिगत लड़ाई में एक दूसरे को कितना नीचे गिरा देना है, यही सोच कर वे सब मुसंघी शब्द का इस्तेमाल करते रहे। असल में इसकी शुरूआत […]

Read More
 अर्नव गोस्वामी पर है आपराधिक साज़िश रचने का आरोप

अर्नव गोस्वामी पर है आपराधिक साज़िश रचने का आरोप

अर्नव गोस्वामी ने लोकसभा सांसद सोनिया गाँधी को लेकर अभद्र और अमर्यादित टिप्पणी की, उससे कहीं अधिक गंभीर मामला यह है कि अर्नव ने पालघर में दो साधुओं एवं ड्राइवर की हत्या को सांप्रदायिक रंग देते हुए समाचार कार्यक्रम प्रस्तुत किया। IPC की धारा 120B के तहत उस पर आरोप है कि पालघर की घटना […]

Read More
 कुछ दिन पहले विलेन बना दिए गए थे, अब प्लाज़्मा डोनेट कर बन गए हीरो

कुछ दिन पहले विलेन बना दिए गए थे, अब प्लाज़्मा डोनेट कर बन गए हीरो

26 अप्रैल को लगातार छह घंटे तक भारत में ट्विटर पर जिस हैशटैग ने कब्ज़ा कर रखा था, वह है #TabligiHeroes .  अब तक (जिस वक्त ये लेख लिखा जा रहा है, 26 अप्रैल रात 12 बजे) एक लाख बीस हजार ट्विट हो चुके हैं। पहले नंबर पर बना हुआ है। वजह है कोरोना संदिग्ध […]

Read More
 छुपे नहीं बल्कि लॉकडाउन के कारण फंस गए थे तबलीगी जमात के लोग

छुपे नहीं बल्कि लॉकडाउन के कारण फंस गए थे तबलीगी जमात के लोग

तबलीगी जमात को हम मुसलमान ‘अल्लाह मियाँ की गाय’ कहते आए हैं दशकों से। मुसलमानों का एक बड़ा वर्ग, वो भी इतना सीधा सादा की पूछिए मत। एकदम से गैरराजनीतिक। सिर्फ मस्जिद में रहना। अल्लाह-अल्लाह करना और घरों को चले जाना। आपस में ही इस्लाम की बातें करना, सबको अपना मानना। पैजामे टखनों से ऊपर, […]

Read More
 अकबर इलाहाबादी – वो नाम जो अपने शहर की पहचान बन गया

अकबर इलाहाबादी – वो नाम जो अपने शहर की पहचान बन गया

नाम था अकबर हुसैन रिज़वी। जज थे। शायर हुए तो लोग कहने लगे अकबर ‘इलाहाबादी।’ और फिर अकबर को ‘इलाहाबादी’ कहलाना इतना पसंद आया कि इस शहर की पहचान खुद अकबर बन गए। 16 नवंबर 1846 की पैदाइश थी। मने पहली जंगे आज़ादी से एक दशक पहले ही जन्म हो गया था। आज हैप्पी बड्डे […]

Read More
 दंगा भड़काने में रोड़ा बन रहे थे, शायद इसलिए मारे गए सुबोध कुमार सिंह

दंगा भड़काने में रोड़ा बन रहे थे, शायद इसलिए मारे गए सुबोध कुमार सिंह

ये उसी शिखर अग्रवाल की पोस्ट है जिसने तीन दिसंबर की सुबह को खेतों में गाय कटी हुई देखी। दो दिसंबर की सुबह में इसने सभी स्वयंसेवकों की मीटिंग रखी और अगले दिन गाय कटी हुई प्राप्त हुईं। यदि सही और ईमानदारी से जांच हो तो पता चलेगा कि गाय किन लोगों ने काटी और […]

Read More
 नज़रिया – तरुण गोगोई के इस ट्वीट के बाद क्या राहुल गांधी का घेराव करेंगे NRC पीड़ित

नज़रिया – तरुण गोगोई के इस ट्वीट के बाद क्या राहुल गांधी का घेराव करेंगे NRC पीड़ित

असम में चालीस लाख नागरिकों की नागरिकता ख़तरे में है। ट्वीटर पर असम के पूर्व मुख्यमंत्री श्री तरूण गोगोई ने एलान करते हुए लिखा है कि NRC उनकी दिमाग की उपज थी। असम में NRC की कोई ज़रूरत नहीं थी फिर भी हमने बनाया। 15 साल तक ये आदमी असम का मुख्यमंत्री रहा। 2001-16 तक। […]

Read More
 नज़रिया – एथीस्ट ,प्रोग्रेसिव या मज़हबी, उंगली करने पर दर्द सबको होता है

नज़रिया – एथीस्ट ,प्रोग्रेसिव या मज़हबी, उंगली करने पर दर्द सबको होता है

मिडिल क्लास फैमिली के लड़के, गाँव से शहर आए लड़के, नए नए लिबरल बने लड़के सेक्स हेतु मज़हब को बिस्तर पर बिछा देने के लिए बदनाम हैं। कथित कम्यूनिस्ट बने मुसलमान लड़कों के परिवारों की राजनीतिक,धार्मिक तथा सामाजिक स्तर पर अवलोकन करेंगे तो पाएंगे वे इस्लाम को ही फॉलो करते हैं परंतु लड़के, परिवार से […]

Read More
 वे बताना चाहते हैं कि इस देश में तुम्हें रहना है तो दब कर रहो

वे बताना चाहते हैं कि इस देश में तुम्हें रहना है तो दब कर रहो

अलीगढ़ मुस्लिम यूनीवर्सिटी में आज पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी को छात्रसंघ द्वारा आजीवन सदस्यता प्रदान की जानी थी। बीजेपी इस बीच पाकिस्तान के संस्थापक जिन्ना की तस्वीर जो कि एएमयू के यूनीयन हॉल में लगी है को वहां से निकालने की बात करने लगी। गोपाल कृष्ण गोखले ने मोहम्मद अली जिन्ना के बारे में कहा […]

Read More
 गुलबर्गा के निसार अहमद के जेल में बीते 23 साल क्या कांग्रेस वापस करेगी ?

गुलबर्गा के निसार अहमद के जेल में बीते 23 साल क्या कांग्रेस वापस करेगी ?

तारीख़ थी पन्द्रह जनवरी 1994. जगह थी कर्नाटका. शहर था गुलबर्गा. एक नौजवान जो उस वक़्त फार्मेसी की पढ़ाई कर रहा था. इंटर पास किये हुए उसे सिर्फ दो साल हुए थे. कॉलेज में एडमिशन हुआ और वक़्त बीतने लगा. उसे इस बात का इल्म बिल्कुल नहीं था की जब वह फार्मेसी की पढ़ाई कर […]

Read More