यौन शोषण के आरोप में सैनिक का हुआ कोर्ट मार्शल

Share

महिलाओं, खासकर नाबालिक लड़कियों के साथ यौन उत्पीड़न और शोषण के मामलों में पिछले 3 सालों में देश भर के अंदर बढ़ोतरी हुई है। लगभग हर पांचवें दिन देश के किसी न किसी कोने में नाबालिग लड़की को इसका सामना करना पड़ता है। हाथरस कांड, निर्भया केस, एसिड अटैक जैसी ना जाने कितनी ही घटनाएं होती रहती है। कई बार लड़कियां कुछ बताने से डरती है और कई बार उन्हें बोलने से रोक दिया जाता है।

ऐसा ही एक केस राजस्थान में देखने को मिला है। राजस्थान रेजीमेंट (Rajasthan Regiment) के एक जवान ने अपने ही साथी की बेटी के साथ यौन शोषण किया। मामले पर 5 सितंबर को एक जनरल कोर्ट मार्शल (General Court Marshal) ने आरोपी जवान को कठोर सजा सुनाई है।

सेना के जवान ने किया अपराध

भारतीय थल सेना (Indian Army) के राजस्थान रेजिमेंट के एक जवान ने बहुत शर्मनाक काम किया। जवान ने अपने ही एक साथी की बेटी को यौन शोषण किया। आपको यह जानकर हैरानी होगी कि पीड़िता की उम्र महज 11 साल बताई जा रही है। आरोपी जवान ने यह कुकर्म एक साल पहले किया था, मगर मामला अभी सामने आया है।

जवान की पोस्टिंग फिलहाल राजस्थान में रेगिस्तान सेक्टर में है। मामले पर सुनवाई करते हुए जवान को कड़ी सजा दी गई और उसे सेवा से बर्खास्त कर दिया गया।

जवान को 5 साल की कठोर सजा

सेना के एक सूत्र ने जानकारी देते हुए बताया, “जनरल कोर्ट मार्शल ने 5 सितंबर को ‘यौन अपराधों से बच्चों की रोकथाम अधिनियम की धारा 10’ के तहत अपराधी जवान के रैंक में कटौती के साथ-साथ 5 साल के कठोर कारावास और सेवा से निलंबन की सजा का आदेश दिया है।” पूरे केस में अभियोजन पक्ष के वकील अक्षित आनंद है।

भारतीय सेना नेतृत्व ने साफ निर्देश दिए हैं कि, “नाबालिगों के खिलाफ यौन शोषण और हमले के ऐसे अपराधों से सख्ती से निपटा जाए और जल्द से जल्द कार्यवाही पूरी हो।”

सेना के जवान का ऐसा करना शर्मनाक

जिस भारतीय सेना को देश की सुरक्षा में नंबर वन माना जाता है, उसी के एक सैनिक पर यौन शोषण जैसे कुकर्म का धब्बा लगना बहुत शर्मनाक है। अभिनंदन, विक्रम बत्रा जैसे सैनिक भारतीय सेना (Indian Army) का एक तरफ मान बढ़ाते हैं, तो दूसरी तरफ कुछ ऐसे सैनिक भी होते हैं जो न सिर्फ सेना पर बल्कि समाज पर एक बदनुमा धब्बा हैं। जिनके कारण पूरी सेना पर लोग उंगली उठाने लगती हैं।