उत्तर प्रदेश में अब होगी योगी सरकार की अग्निपरीक्षा क्योंकि उत्तर प्रदेश की गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा क्षेत्र के लिए उपचुनाव की तारीखों की  घोषणा हो चुकी है.
इन दोनों लोकसभा सीटों पर 11 मार्च को मतदान होगा और 14 मार्च को मतगणना होगी. इसके लिए 13 फरवरी से नामांकन की प्रक्रिया भी शुरू हो जायेगी. 20 फरवरी तक उम्मीदवार नामांकन भरे जा सकते हैं और  23  फरवरी तक नाम वापस लेने की आखरी तारीख है.
पिछले चुनाव में दोनों सीटों पर भाजपा का कब्जा था. वर्ष 2014 में योगी आदित्यनाथ गोरखपुर से और केशव प्रसाद मौर्य फूलपुर सीट से चुनाव जीते थे. योगी के मुख्यमंत्री और मौर्य के उपमुख्यमंत्री बनने के बाद दोनों को राज्य विधान परिषद का सदस्य बना दिया गया. इसके बाद दोनों ने लोकसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया था.
जैसे ही उपचुनाव की तारीखों की घोषणा हुई गोरखपुर में चर्चा का विषय बन गया है कि उपचुनाव में क्या भाजपा उम्मीदवार गोरखनाथ मंदिर से ही होगा, क्योंकि लोकसभा के एक उपचुनाव समेत 10 चुनाव में गोरखपुर का सांसद गोरक्षपीठ से ही चुना जाता रहा है.
उधर दूसरी तरफ भी इस बात की अटकलें लगाई जा रही हैं कि पिछले साल राज्यसभा से इस्तीफा देने वाली बसपा प्रमुख मायावती फूलपुर उपचुनाव में मैदान में आ सकती हैं, लेकिन पार्टी की तरफ से अभी तक इस बारे में अभी आधिकारिक तौर पर कुछ नहीं कहा गया है.
उत्तर प्रदेश के उपचुनाव आदित्यनाथ के लिए परीक्षा साबित होगी क्योंकि इन्हें उनकी सरकार की लोकप्रियता से जोड़कर देखा जा रहा है.

About Author

सुभाष बगड़िया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *