उत्तरप्रदेश

लखनऊ की सड़क पर लड़की की गुंडई कैसी लगी आपको?

लखनऊ की सड़क पर लड़की की गुंडई कैसी लगी आपको?

यूपी की राजधानी से मरी हुई कानून व्यवस्था की एक और तस्वीर सामने आई है। लखनऊ के कृष्णानगर इलाके में ट्रेफिक लाइट के पास एक लड़की एक युवक की लगातार पिटाई कर रही है और आस-पास खड़े लोग बस वीडियो बना रहे हैं। इन तमाशबीनों में यूपी की ट्रेफिक पुलिस भी शामिल है। दरअसल, कुछ दिन पहले यूपी की राजधानी से एक वीडियो खूब वायरल हो रहा था। इस वीडियो में एक युवती उछल-उछलकर कैब ड्राइवर की राजधानी लखनऊ में ट्रैफिक पुलिसवालों के सामने बीच सड़क पर कैब ड्राइवर को पिटाई करते हुए नजर आ रही है। अब सोशल मीडिया पर लड़की को गिरफ्तार करने की मांग भी उठ रही है। अब इस घटना के बीच एक और वीडियो क्लिप सामने आ रहा है, इस सीसीटीवी फुटेज में लड़की चलती गाड़ियों के बीच से ही रोड कॉस्र करते हुए देखा जा सकता है।

सोशल मीडिया पर लोग का जिस तरह से रिएक्शन देखने को मिल रहा है। वह अनुमानित ही था। क्योंकि एक लड़की एक लड़के के साथ बदसलूकी करते हुए नजर आ रही थी। लड़का सहन की हद तक मार सहता रहा। लोग कह रहे हैं कि अब वे महिलाएं कहा गईं जो नारीवाद का झंडा उठाए घूमती हैं? क्या अब नारीवादियों के मुँह पर ताले लग गए हैं? क्या एक लड़की होना आपको किसी के भी साथ मारपीट करने का लाइसेंस दे देता है? यह सभी सवाल एक हद तक जायज़ भी हैं। लेकिन बात यहाँ नारीवाद के गलत इस्तेमाल से ज्यादा अपने अधिकारों का गलत इस्तेमाल करने की है। और उससे भी ज्यादा पुलिस प्रशासन की लचर व्यवस्था कानून व्यवस्था की।

अपने अधिकारों का किया गलत इस्तेमाल

हमारे देश में महिलाओं के हित में काफी सख्त कानून हैं। लेकिन जहाँ इन कानूनों की सबसे ज्यादा जरूरत होती है वहाँ यह सिर्फ कागज पर लिखे हुए शब्द मात्र रह जाते हैं। लेकिन कुछ ऐसी लड़कियां महिलाओं के हित में बनाए गए कानूनों का जमकर गलत इस्तेमाल करती हैं। आपने आस-पास कई लोगों को यह कहते जरूर सुना होगा कि “औरतों के मुँह नहीं लगना चाहिए, आज कल इन्हीं की ज्यादा सुनी जाती है।” शायद यही बात सोच कर ही लड़के ने अपना बचाव करने तक की कोशिश नहीं की। लड़का लोगों से मदद की गुहार लगाता रहा, कहता रहा कि बिना बात में मुझे मार रही हैं। मेरे मालिक का फोन तो़ड़ दिया, लेकिन उस लड़के की मदद के लिए कोई आगे नहीं आया।

किसी भी हालात गुंडागर्दी स्वीकार्य नहीं

किसी भी राज्य में किसी के भी द्वारा (चाहें वह पुरूष हो महिला) गुंडागर्दी स्वीकार्य नहीं होनी चाहिए। ऐसे लोगों के लिए समाज में कोई जगह नहीं होनी चाहिए, न ही इनके लिए किसी तरह कोई हमदर्दी रखनी चाहिए। पुलिस प्रशासन का यह काम है कि राज्य में कानून व्यवस्था बनाए। सुरक्षा का अधिकार जितना महिला का है, उतना ही पुरूष का भी है।

ऐक्सिडेंट की कोशिश का लगाया था आरोप

जिस महिला ने कैब ड्राइवर की पिटाई की उसने ड्राइवर पर आरोप लगाया था कि उसने युवती का ऐक्सिडेंट करने की कोशिश की है। लेकिन सीसीटीवी की वीडियो में साफ तौर पर देखा जा सकता है कि महिला खुद चलती गाड़ियों के बीच से रोड क्रॉस कर रही थी।

दोनों पक्षों को थाने ले गई पुलिस

हालांकि जैसे ही सूचना पुलिस थाने में इस बात की सूचना मिली, पुलिस दोनों पक्षों को थाने ले गई। इस बीच घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर पोस्ट कर दिया और यह देखते ही देखते खूब वायरल हो गया। वजीरगंज निवासी इनायत अली ने बताया कि उनका छोटा भाई सहादत अली उबर टैक्सी चलाता है। सहादत शुक्रवार रात सरोजनीनगर इलाके में सवारी छोड़कर घर लौट रहा था। सिग्नल रेड होने पर वह कृष्णानगर के अवध चौराहे पर रुक गया।

इस बीच एक महिला पीछे से आई और गाड़ी सही से चलाने की बात कह कर चिल्लाने लगी। इसके बाद महिला ने कैब ड्राइवर का फोन छीन कर तोड़ दिया और सहादत को कॉलर से पकड़कर नीचे उतार दिया, देखते ही देखते महिला ने अपना आपा खो दिया और सहादत को कई थप्पड़ जड़ दिए।

गाड़ी छुड़वाने के लिए दिए 5 हजार

एनबीटी लखनऊ के हवाले से इनायत ने बताया कि रात में सहादत ने फोन नहीं उठाया। जिसके बाद उसने कार को ऑनलाइन ट्रेस किया। इस दौरान कार की लोकेशन थाने पर मिली। इनायत अली फौरन अपने भाई दाऊद को लेकर कृष्णानगर थाने पुहंचा। लेकिन पुलिसकर्मियों ने सही से बात न करने के आरोप में उन्हें भी बंद कर दिया। शनिवार को तीनों भाई का पुलिस ने चालान कर दिया। इनायत का आरोप है कि शनिवार शाम वह कार छुड़ाने थाने पहुंचे तो एसआई हीरेंद्र सिंह ने 8 हजार रुपये की मांग की। फिर पांच हजार रुपये देने की बात पर पुलिस वाले राजी हुए और उन्हें कार वापस मिल सकी।

वीडियो वायरल होने के बाद लड़की पर हुई एफआईआर

बीते दो दिन से सोशल मीडिया यह वीडियो जमकर वायरल हो रही थी। जिसके बाद सोशल मीडिया के जरिए लोग कैब ड्राइवर के समर्थन में आ गए और लड़की को हिरासत में लेने की मांग उठने लगी। अब लड़की पर एफआईआर दर्ज हो गई है। एएनआई से बातचीत में कैब ड्राइवर ने अपनी आपबीती बताई और लड़की के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने की भी सूचना दी।

मुझे मेरी सेल्फरिस्पेक्ट चाहियेःसहादत

न्यूज एजेंसी से बातचीत के दौरान जब सहादत से पूछा गया कि अब वह क्या चाहते हैं? तब सहादत ने जवाब देते हुए कहा, ‘जो सेल्फ इज्जत मेरी गई है, मुझे बस वहीं मेरी सेल्फ रिस्पेक्ट चाहिए। साथ ही मेरा जो नुकसान हुआ, उसकी भरपाई हो जाए बस।’

About Author

Heena Sen