हैदराबाद की प्रियंका रेड्डी का बलात्कार और उसके बाद हुई हत्या के बाद मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल की अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक पल्लवी त्रिवेदी द्वारा एक फ़ेसबुक पोस्ट के ज़रिए सभी पेरेंट्स के लिए कुछ आवश्यक सलाह दी गईं, पल्लवी की यह फ़ेसबुक पोस्ट जमकर वायरल हुई है। आईए देखें पल्लवी ने क्या लिखा है।

आईए देखें भोपाल पुलिस की अधिकारी पल्लवी त्रिवेदी की फ़ेसबुक पोस्ट

कल निर्भया थी, आज प्रियंका और निर्भया से प्रियंका के बीच हज़ारों लड़कियाँ बलात्कार का शिकार हुईं। चुनिंदा केस ही चर्चा में आये बाकी दूर दराज के कस्बों के केस लोकल समाचार पत्रों की एक कॉलम की खबर बन कर रह गए।लोग व्यथित हुए,दो चार दिन ज़िक्र चला और फिर रोज़मर्रा को ज़िंदगी शुरू हो गयी।

लेकिन हर घटना के बाद हमने पेरेंट के रूप में, वयस्क लड़की के रूप में, ज़िम्मेदार पड़ोसी और नागरिक होने के नाते क्या कदम उठाए जिससे कि हमारे आसपास की लड़की के साथ यह जघन्य घटना न हो सके? यदि उठाये भी तो ये नाकाफी थे।

आज मैं एक लड़की,एक ज़िम्मेदार नागरिक और एक पुलिस अधिकारी होने के नाते कुछ प्रिवेंटिव एक्शन व ज़रूरी कदम सभी को सजेस्ट करना चाहती हूं ,जो हर हालत में हर लड़की और उनके परिजनों तक पहुंचें।

  1. नाबालिग लड़कियों के केस में पेरेंट्स और स्कूल प्रबंधन की सबसे ज़्यादा ज़िम्मेदारी होती है। नासमझ बच्ची अपने साथ हुई घटना को न ठीक से समझ सकती है और न बता सकती है। इसलिए हर वक्त उसे सुरक्षित निगरानी में रखना बेहद ज़रूरी है। ख़ासकर पुरुष स्टाफ जैसे ड्राइवर, सर्वेंट, रिश्तेदार, ट्यूशन टीचर वगेरह के साथ अकेला न छोड़ें और न ही उनसे बच्ची के कपड़े बदलने या नहलाने जैसे कार्य कराएं। उसे तीन साल की उम्र से ही अच्छे और खराब स्पर्श की ट्रेनिंग दें। इसे अपने मौलिक कर्तव्य की तरह निभाएं।
  2. आठ साल की उम्र में बच्ची को अश्लील हरकतों और रेप का अर्थ समझा दें। बार बार समझाएं जिससे उसे इसकी समझ पैदा हो जाये और अकेले असुरक्षित जाने के खतरों से लगातार आगाह करते रहें। उसे बताएं कि कोई पुरूष अगर अश्लील इशारे करे,पोर्न वीडियो भेजे या दिखाने की कोशिश करे,उसके सामने अपना लिंग छुए या दिखाए या मास्टरबेट करे तो फौरन आकर पेरेंट्स को बताए। यही हरकतें उसके पोटेंशियल बलात्कारी होने का लक्षण हैं।और वो आपसे ये सब शेयर कर सके इसके लिए उसके दोस्त बनिये। डांट डपट करके उसे ये बातें बताने से हतोत्साहित न करें।
  3. किशोर लड़कियों को अकेले निकलने से न रोकें किंतु उसे ज़रूरी सेफ्टी मेजर्स के बारे में बताएं। उसके साथ रेप के केसेस डिस्कस करें और उसके मोबाइल में वन टच इमरजेंसी नम्बर रखें जो आवश्यक रूप से पुलिस का ही हो। उसके बाद वह परिजनों को कॉल कर सकती है। स्प्रे,चाकू ,कैंची, सेफ्टी पिन,मिर्च पाउडर उसके बैग में अनिवार्य रूप से रहे। यह आदत जितनी जल्द विकसित कर दें ,उतना बढ़िया। इसका डेमो देकर उसे ट्रेंड करवा दें। रिहर्सल आवश्यक है अन्यथा हथियार होते हुए भी घबराहट में उसका उपयोग नहीं हो पाता।
  4. वयस्क लड़कियां भी पर्स में ऊपर बताए हुए हथियार अनिवार्य रूप से रखें व ज़रूरत पड़ने पर बिना घबराए उनके इस्तेमाल में कुशल हो। इन हथियारों के साथ एक तेज़ आवाज़ वाली सीटी रखें। अपराध के वक्त तेज़ शोर से अक्सर अपराधी भाग जाते हैं। अगर कोई ऐसी डिवाइस हो या बन सकती हो जो एक बटन दबाते ही इतना तेज विशेष आवाज़ का सायरन बजाए जो आसपास के सारे क्षेत्र में गूंज जाए और जिसकी आवाज़ को सिर्फ रेप होने की आशंका के रूप में यूनिवर्सल साउंड माना जाए तो कृपया इसकी जानकारी दें और अगर नहीं है और कोई व्यक्ति या कम्पनी इसे बना सकती है तो इसे सभी नागरिकों की तरफ से मेरा आग्रह मानकर बना दे। यह बेहद प्रभावी सिद्ध होगी।
  5. पुलिस कंट्रोल रूम व किसी भी पुलिस अधिकारी का नम्बर हमेशा अपने पास रखें। और सबसे पहले उन्हें डायल करें। पुलिस की छवि आपके मन में जो भी हो पर याद रखें कि महिलाओं के अपराधों में पुलिस बेहद तत्परता से काम करती है व आपकी सबसे निकट का पुलिस वाहन शीघ्र आपके पास पहुंच जाएगा। पुलिस एप अपने मोबाइल में रखें व अपनी लोकेशन भेजें। अपने नजदीकी पुलिस स्टेशन जाकर स्टाफ व अधिकारियों से परिचय करें। पुलिस वाकई आपकी दोस्त है। यह आप महसूस करेंगी।
  6. मैं चाहती हूँ कि लड़कियों के लिए यह देश और दुनिया इतनी सुरक्षित हो कि वे आधी रात को भी बेखटके सड़कों पर घूम सकें लेकिन यथार्थ इतना सुंदर नहीं है। इसलिए अकेले देर रात सूनी सड़कों पर आवश्यकता होने पर ही निकलें। पुलिस हर कदम पर आपके साथ तैनात नहीं हो सकती ।और अपराधी व दरिंदे लड़कों को रातों रात सुधारा नहीं जा सकता। इसलिए क्लब या पार्टी से देर रात लौटें तो अपनी सुरक्षा का ध्यान पहले रहे। कैब या टैक्सी करने पर तुरंत लाइव लोकेशन घरवालों को दें व उसका फोटो भी भेजें। यह बात उस ड्राइवर को भी मालूम हो।
  7. एक महत्वपूर्ण बात यह कि अगर अपराधी अकेला है, तो उसे हैंडल किया जा सकता है। अगर वह रेप अटेम्प्ट करता है, तो बिना घबराए उसके टेस्टिकल्स हाथों से पकड़कर जितनी मजबूती से हो सके,दबा दें।इससे वह कुछ मिनिटों के लिए अशक्त हो जाएगा और लड़की को बच निकलने का या उस पर आक्रमण करने का वक्त मिल जाएगा। गैंग रेप की दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति में लड़की ज़रूर बेबस हो सकती है मगर ऐसे में पुलिस को त्वरित सूचना मदद करेगी।
  8. मार्शल आर्ट या अन्य कोई सुरक्षात्मक आक्रमण कला सिखाना अपनी बच्चियों के लिए to do लिस्ट में अनिवार्यतः शामिल कर लें ।
  9. बच्चों की सही काउंसलिंग और अपराधों से बचाव के उपाय आप न जानते हों तो बेझिझक पुलिस थाने या किसी एन जी ओ की मदद लें। आपके स्कूल,क्लास, कोचिंग, मोहल्ले में आकर आपके लिए काउंसलिंग सेशन आयोजित हो जाएगा।
  10. सबसे महत्वपूर्ण बात सबसे अंत में ये कि समाज को स्त्रियों के लिए सुरक्षित बनाएं और इसके लिए अपने घरों के ,मोहल्ले के व समाज के लड़कों को बचपन से ही शिक्षित करें। उनकी विकृत मानसिकता न हो इसके लिए अपने लड़कों की गतिविधियों पर दस बारह साल की उम्र से नज़र रखें। उसके मोबाइल पर,उसके दोस्तों पर, उसकी आदतों पर लगातार नज़र रखें व उससे लगातार बात करें। हर रेप घटना पर उससे चर्चा करें। उसे संवेदनशील बनाएं और स्त्रियों के प्रति सम्मान करना सिखाएं। यह शिक्षा अमीरी,गरीबी,धर्म, जाति, क्षेत्र के भेद से परे हर माँ बाप को अपने लड़कों को देनी होगी। अगर पेरेंट्स खुद अनपढ़ व जागरूक नहीं हैं तो ज़िम्मेदार नागरिक अपने आसपास के क्षेत्रों में,स्कूलों में लड़कों के लिए समय समय पर ऐसे सेशन आयोजित कर सकते हैं । इसके साथ ही लड़कों में अपराध के दंड के विषय में भी भय जागृत करें। अगर कोई लड़का आपके परिवार अथवा आस पड़ोस में सेक्समेनियक है, तो उसे सायकायट्रिस्ट को दिखाएं। उसे वयस्क होने के बाद म्युचुअल कंसेंट से सेक्स के बारे में समझाएं । यदि कोई आवारा, शराबी लड़के आपकी नज़रों में हों तो ज़रूर पुलिस को खबर करें।

यह सब आज करना शुरू करेंगे तो रातों रात कुछ नहीं बदलेगा लेकिन लगातार प्रयासों से असर ज़रूर दिखेगा। क्योंकि कोई परिवार नहीं जानता कि अगली बार किसके घर की स्त्री इस हादसे की शिकार होगी। प्लीज़ इसे बेहद बेहद गम्भीरता से लें। अगर आप ये सब कर रहे हैं, तो कृपया अपना फर्ज़ समझकर दूसरों को भी समझाएं। स्त्रियों के लिए एक बेहतर समाज बनाने में हम सब की आहुति लगेगी। प्रदर्शन करें,धरने दें,कड़ी सज़ा की मांग करें, केंडल मार्च करें लेकिन खुद के कर्तव्य नहीं भूलें।

प्लीज़ इसे अधिक से अधिक शेयर करें,कॉपी करें,इसमें कुछ जोड़ना चाहें तो जोड़ दें लेकिन ज़्यादा से ज़्यादा लोगों तक इसे पहुंचाएं। ये बेहद ज़रूरी है। हम यूँ सिर्फ क्षोभ में भरे व्यथित होकर बैठे नहीं रह सकते।मैं इसे बार बार पोस्ट करूंगी । हम प्रियंका को भूल नहीं सकते।कभी नहीं।

पल्लवी त्रिवेदी

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक,भोपाल

एक ज़रूरी अपील—————————-कल निर्भया थी, आज प्रियंका और निर्भया से प्रियंका के बीच हज़ारों लड़कियाँ…

Posted by Pallavi Trivedi on Friday, November 29, 2019