नई दिल्ली। संसद के दोनों सदन गर्म हैं, नोटबंदी पर संग्राम छिड़ा हुआ है. इसी बीच राज्यसभा में नोटबंदी के मुद्दे पर पूर्व प्रधानमंत्री व विश्वविख्यात अर्थशास्त्री डॉ मनमोहन सिंह ने कहा-

  1. ‘नोटबंदी से आम लोगों को परेशानी हो रही है। सरकार इस पर ध्यान दे।
  2. नोटबंदी के बाद 60-65 लोगों की जान चली गई है, इससे हमारे लोगों का करेंसी और बैंकिंग सिस्टम पर से विश्वास कम हो जाएगा।

उन्होंने एक मशहूर अर्थशास्त्री के शब्द दोहराते हुए कहा :- ‘जो लोग कहते हैं कि लांग रन में नोटबंदी का फायदा होगा, उन्हें याद रखना चाहिए कि लांग रन में हम सब मर जाएंगे। फायदा देखने के लिए कोई जिंदा नहीं रहेगा।’
उन्होंने कहा, ‘प्रधानमंत्री कहते हैं कि 50 दिन का इंतजार करें… लेकिन गरीब व्यक्ति के लिए तो ये 50 दिन भी घातक साबित हो सकते हैं। मैं प्रधानमंत्री से पूछना चाहता हूं कि वे किसी एक देश का नाम बता दें जहां लोग बैंकों में अपना पैसा तो जमा कराते हैं, लेकिन निकाल नहीं सकते।’
पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह ने राज्यसभा में कहा, ‘हम इस योजना को कैसे लागू कर सकते हैं, इसके लिए रचनात्मक प्रस्ताव के साथ आना चाहिए। देश के ग्रामीण इलाकों में अधिसंख्य लोगों की सेवा करने वाले कोऑपरेटिव बैंकों के बास पैसा नहीं है, वे बंद पड़े हैं।’ मनमोहन सिंह ने कहा, ‘उम्मीद करते हैं कि आम लोगों को राहत देने के लिए प्रधानमंत्री किसी व्यवहारिक रास्ते की खोज करेंगे।

About Author

Team TH

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *