भोपाल। मध्यप्रदेश की शिवराज सरकार के वर्तमान समय मेंअच्छे दिन नहीं चल रहे है। जिन 5 बाबाओं को सरकार ने घोटाले उजागर न करने की शर्त पर मंत्री बनाया था उसमें शिवराज सिंह की खुब हंसी भी उड़ी और अब वो घोटाला भी सामने आ गया।

बाबाओं को मंत्री बनाने के बाद सरकार लगातार विपक्ष के निशाने पर है इस बीच युवा कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष कुणाल चौधरी सोशल मीडिया पर इस घोटाले को लेकर हर दिन एक नया तथ्य सामने रख रहे है। बताया जा रहा है युवा कांग्रेस इस घोटाले को लेकर बड़ा आंदोलन खड़ा करने की तैयारी कर रही है जिसमें मुख्यमंत्री की नर्मदा यात्रा को लेकर भी कई खुलासे किए जायेंगे।

युकां प्रदेश अध्यक्ष कुणाल चौधरी ने इस मामले को लेकर कहा कि नर्मदा नदी के किनारें 24 जिलों में 2 जुन 2017 को 7 करोड़ से ज्यादा पौधे रोपने का सरकार ने दावा किया था जो पौधे रोपे गए थे वो आज धरातल पर नहीं है । नर्मदा किनारें जो पौधे रोपे गए थे उनमें से अब सरकार भी यह नही बता पा रही है कि धरातल पर कितने पौधे बचे है ।

चौधरी ने सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि इस अभियान का खाका पहले से ही इस प्रकार तय किया गया था कि भ्रष्टाचार कैसेकिया जायें । 7 करोड़ पौधे में 10 प्रतिशत पौधे भी आज नही दिख रहे है । 6 करोड़ से ज्यादा पौधे का यह भ्रष्टाचार है जिसमें 68 रुपए से लेकर 15 रुपए तक पौधा खरीदा गया । सरकार भी यह स्वीकार कर रही है यह पौधे जमीन पर नही है ।

मुख्यमंत्री कर रहे नाटक – प्रदेश युकां के अध्यक्ष कुणाल चौधरी ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह को नाटक रत्न की उपाधि देते हुए कहा कि सीएम साहब कितना अच्छा नाटक कर रहे है लेकिन उनका यह नाटक पहले ही फेल हो गया है । इस घोटाले को लेकर जब बाबाओं ने सरकार के खिलाफ यात्रा का ऐलान किया और कहा कि हम 6 करोड़ पौधे गिनने जा रहे है तो तुरंत सरकार ने उन्हें समझाया और सौदेबाजी कर मंत्री बना दिया । वो मुख्यमंत्री अब अफसरों से पूछ रहे है कि 6 करोड़ पौधे कहां लगाये । इस प्रकार का नाटक समझ से परें है कि क्या प्रदेश की जनता को मुख्यमंत्री अनभिज्ञ समझते है कि वो कुछ भी करें और जनता उनकी जय जय कार करती रहे ऐसा अब नही होने वाला है, यह सिर्फ भ्रष्टाचार ही नही माँ नर्मदा का अपमान है, युवा कांग्रेस इस लड़ाई को पूरी ताकत से लड़ेगी ।