काशी में एक निर्माणधीन पुल के गिर जाने से कई जानें चली गई हैं. बीबीसी हिंदी के पोर्टल में छपी खबर के हवाले से वाराणसी कैंट रेलवे स्टेशन के पास हुई इस दुर्घटना में 18 लोगों के मौत की पुष्टि हुई है. ये निर्माणाधीन पुल वाराणसी कैंट से लहरतारा के बीच बन रहा है.

वाराणसी कैंट रेलवे स्टेशन के पास एक फ्लाईओवर ब्रिज बनाया जा रहा था. बताया जा रहा है कि कुछ गाड़ियां भी इस पुल के नीचे दब गईं. पुल के गिरते ही चीख-पुकार मच गई. आस पास के लोग मदद के लिए दौड़ पड़े. पुलिस को भी फोन किया गया. पुलिस हादसे के काफी देर बाद पहुंची जिसको लेकर लोगों में गुस्सा देखा गया.

जिला प्रशासन ने तेजी से बचाव कार्य करते हुए लोगों की हर संभव मदद करने के निर्देश बाद सक्रीयता दिखाई. पुलिस की सहायता के लिये राष्ट्रीय आपदा अनुक्रिया बल (एनडीआरएफ) की टीम राहत कार्य मे जुट गई थी. गिरे हुये पिलर को क्रेन की मदद से हटाया गया और घायलों को विभिन्न अस्पतालों में भर्ती किया गया.

वाराणसी

इस हादसे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट किया है. उन्होंने लिखा,”मैंने यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ जी से पुल गिरने के बारे में बात की है. सरकार हालातों पर निगाह रखे हुए है और पीड़ितों की मदद के लिए काम जारी है.”

 उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हादसे में मारे गए लोगों के परिजनों को पांच-पांच लाख जबकि घायलों को दो-दो लाख रुपये की मदद देने का निर्देश दिये हैं.

इस पूरे घटनाक्रम पर सोशलमीडिया में राजनैतिक व्यक्तियों व अन्य सोशलमीडिया यूज़र्स को ने उत्तरप्रदेश सरकार और भारतीय जनता पार्टी को घेरा है. आईये देखें किसने क्या प्रतिक्रिया दी.