मोदी सरकार का मंत्रिमंडल बुधवार को अपनी बैठक में कई मुद्दों के अलावा प्रगति मैदान की 3.7 एकड़ की भूमि को निजी क्षेत्र को एक पांच सितारा होटल बनाने के प्रस्ताव पर विचार कर सकता है.

इस प्रस्ताव को वाणिज्य मंत्रालय ने दिया है. प्रगति मैदान की इस परियोजना को प्रदर्शनी व सम्मेलनों के आयोजन के लिए विश्व स्तर की सुविधाओं से लैस करने की समग्र योजना का हिस्सा बताया जा रहा है.

इस परियोजना के लिए लागत, भूमि को 99 साल की लीज़ पर देकर जुटाई जाएगी, जिसका इस्तेमाल इंडिया ट्रेड प्रमोशन आर्गेनाइजेशन (आईटीपीओ) द्वारा प्रगति मैदान में एकीकृत प्रदर्शनी-सह-कन्वेंशन सेंटर (आईईसीसी) परियोजना के वित्तपोषण के लिए किया जाएगा.

इस 2,254 करोड़ रुपये की परियोजना को सरकार ने बीते साल मंजूरी दी थी. इस पुनर्विकास को दो चरणों में पूरा करने की योजना है, इसमें 7,000 व्यक्तियों की बैठने की क्षमता वाले एक सम्मेलन केंद्र का निर्माण भी शामिल है. इसके पहले चरण के अगले साल मई तक पूरा होने की उम्मीद है.

इस परियोजना की कल्पना अंतर्राष्ट्रीय कार्यक्रमों के लिए एक विश्वस्तरीय स्थल प्रदान करने के लिए की गई है और सभी सुविधाओं को पूरा करने के लिए सितारा होटल की जरूरत है.