संघ लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित सिविल सर्विसेज परीक्षा 2017 का रिजल्ट आ चुका है. इस परीक्षा में हैदराबाद के रहने वाले अनुदीप दुरीशेट्टी ने पहला स्थान हासिल किया है. उनके यूपीएससी सिविल सर्विसेज परीक्षा में टॉपर बनने तक का सफर काफी रोमांचक और इंस्पिरेशनल रहा है, क्योंकि उन्होंने अपने अंतिम प्रयास में यह सफलता हासिल की है.अनुदीप वर्तमान में भारतीय राजस्व सेवा (आईआरएस) में असिस्टेंट कमिश्नर पद पर तैनात हैं.

अनुदीप मूलरूप से तेलंगाना राज्य के जगित्याल जिले में स्थित मेटपल्ली के रहने वाले वाले हैं. उनके पिता डॉ मनोहर उत्तरी पावर डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी लिमिटेड, तेलंगाना में सहायक मंडल अभियंता के पद पर कार्यरत हैं.वहीं, उनकी मां डॉ ज्योति गृहणी हैं.

अनुदीप ने मेटपल्ली स्थित श्री सुर्योदय हाई स्कूल से पढ़ाई की और उसके बाद बीटेक (इलेक्टॉनिक्स एंड इंस्ट्रूमेंटशन) की पढाई के लिए बिट्स पिलानी में एडमिशन लिया. साल 2011 में उन्होंने अपना ग्रेजुएशन कंप्लीट कर लिया था.

रिपोर्ट्स के मुताबिक अनुदीप का कहना है कि जब वे इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहे थे, तो उसी समय उन्हें सिविल सर्विस में दिलचस्पी पैदा हुई. हालांकि काफी मेहनत के बाद भी उन्हें सफलता हाथ नहीं लगी.

इसके बाद उन्होंने हैदराबाद में बतौर सॉफ्टवेयर इंजीनियर गूगल में नौकरी शुरू कर दी. हालांकि इस दौरान उन्होंने सिविल सेवा की परीक्षा की तैयारी जारी रखी.

पहली बार परीक्षा दी तो वो इंटरव्यू में रह गए, उसके बाद उन्होंने 2013 में दूसरी बार परीक्षा दी और आईआरएस पद पर चयनित हुए.तीसरे और चौथे प्रयास में उन्हें सफलता हाथ नहीं लगी और उन्होंने पांचवीं बार परीक्षा देने की ठानी और पहला स्थान प्राप्त किया.